उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कोरोना से लड़ने का तरीका बताया

उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने सभी देशवासियों से अपील की है कि वे कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में एकजुट होकर लोगों के जीवन और आजीविका की रक्षा करें।

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने कोरोना से लड़ने का तरीका बताया
Venkaiah Naidu

उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने सभी देशवासियों से अपील की है कि वे कोविड-19 महामारी के खिलाफ लड़ाई में एकजुट होकर लोगों के जीवन और आजीविका की रक्षा करें। आज एक फेसबुक पोस्ट में उपराष्ट्रपति ने कहा कि अधिकांश देशों ने लॉकडाउन को खत्म कर दिया है और अर्थव्यवस्था पर ध्यान केंद्रित करना शुरू कर दिया है। उन्होंने कहा कि सरकार अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए लगातार उपाय कर रही है। उन्होंने सभी से आवश्यक सावधानी बरतने और दिशानिर्देशों का पालन करके सरकार का सहयोग करने को कहा।

इस अभूतपूर्व स्वास्थ्य संकट के खिलाफ लोगों से सामूहिक रूप से लड़ने का आह्वान करते हुए उपराष्ट्रपति नायडू ने कहा कि हमारे देश की ताकत आध्यात्मिकता में हमारा भरोसा और विज्ञान में विश्वास है। उन्होंने लोगों को 'पैनिक' बटन नहीं दबाने की सलाह दी लेकिन 'रोकथाम' और 'सुरक्षा' के बटनों को दबाने के लिए कहा। कोविड-19 का समाधान सावधानी में निहित है, की बात करते हुए उपराष्ट्रपति ने कुछ सरल उपाय सुझाए जैसे- फेस मास्क का इस्तेमाल, सामाजिक दूरी का पालन और लगातार हाथों को धोते रहना क्योंकि सुरक्षित रहने के यही ज्ञात उपाय हैं।

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने इन कदमों के साथ-साथ उन्होंने पारंपरिक खाद्य पदार्थ खाने, जड़ी-बूटी और औषधीय पौधों की तैयारी का सुझाव दिया, जो व्यापक प्रतिरक्षा बढ़ाने वाले साबित हुए हैं। योग और ध्यान के महत्व पर प्रकाश डालते हुए उपराष्ट्रपति ने कहा, 'योग, प्राणायाम और नियमित शारीरिक व्यायाम, जो घर पर किए जा सकते हैं, वायरस से बचाए रखने में हमारे शरीर को काफी मजबूत बना सकते हैं।

कई लोगों के लिए जीवन में महामारी से पैदा हुई अनिश्चितता और चिंता के बारे में बात करते हुए, उपराष्ट्रपति ने लोगों को चिंता न करने की सलाह दी। उन्होंने सुझाव दिया, 'बहुत कुछ हमारे मन पर निर्भर करता है.... हमें अपनी चिंता को कम करने के प्रयास जारी रखने चाहिए और इसे खुद पर हावी नहीं होने देना चाहिए। लोगों को परिवार और दोस्तों के साथ जुड़े रहने के बारे में कहते हुए उन्होंने लिखा कि वर्चुअल तरीके से ही सही, तकनीक उन्हें एक साथ होने और जुड़ाव की भावना का आनंद लेने में मदद कर सकती है। उन्होंने लोगों से खाली समय का इस्तेमाल उन गतिविधियों जैसे- संगीत, ललित कला, साहित्य, खाना पकाने, नई भाषा सीखने आदि में करने को कहा जो उन्हें व्यस्त रख सके। वेंकैया नायडू ने कहा कि हममें से प्रत्येक को यह पता होना चाहिए कि हमें किससे खुशी मिलेगी और उसे करें।