Pak राजदूत ने चाणक्य को बताया पाकिस्तानी, लोगों ने निकाल दी हेकड़ी

पाकिस्तानी मंत्री और नेता तमाम ज्ञान बांटते रहते हैं, इसी बीच वियतनाम में पाकिस्तानी राजदूत कमर अब्बास खोखर ने प्राचीन भारत को लेकर जो ज्ञान दिया है, उसके बाद लोगों ने उनकी हेकड़ी निकाल दी।

Pak राजदूत ने चाणक्य को बताया पाकिस्तानी, लोगों ने निकाल दी हेकड़ी
Qumar Abbas Khokhar

पाकिस्तानी मंत्री और नेता तमाम ज्ञान बांटते रहते हैं, इसी बीच वियतनाम में पाकिस्तानी राजदूत कमर अब्बास खोखर ने प्राचीन भारत को लेकर जो ज्ञान दिया है, उसके बाद लोगों ने उनकी हेकड़ी निकाल दी। दरअसल, छद्म पाकिस्तानी राजदूत खोखर ने प्राचीन भारत की शान रहे तक्षशिला विश्वविद्यालय को प्राचीन पाकिस्तान का हिस्सा बताया है। जबकि खोखर को पता होना चाहिए कि 1947 में पहली बार दुनिया के नक्शे पर पाकिस्तान का जन्म हुआ। इसके अलावा खोखर ने चाणक्य और पाणिनी को भी पाकिस्तानी बताया है।

कमर अब्बास खोखर ने ट्विट कर एक तस्वीर साझा की, जिसमें उसने लिखा कि तक्षशिला विश्वविद्यालय की यह हवाई तस्वीर है, जो फिर से बनाई गई है। यह यूनिवर्सिटी प्राचीन पाकिस्तान में आज से 2700 साल पहले इस्लामाबाद के पास मौजूद था। इस विश्वविद्यालय में दुनिया के 16 देशों के छात्र 64 विभिन्न विषयों में उच्चशिक्षा ग्रहण करते थे, जिन्हें चाणक्य और पाणिनी जैसे विद्वान पढ़ाते थे। बता दें, चाणक्य भारतीय उपमहाद्वीप के राजा चंद्रपुप्त मौर्य के मंत्री थे और गुप्त साम्राज्य की राजधानी पाटलिपुत्र वर्तमान में पटना थी।

इतिहास संबंधी झूठ फैलाने वाले कमर अब्बास खोखर यही नहीं रुका, उसने यह भी दावा कर दिया कि दुनिया के पहले भाषाविद् पाणिनी और पूरे पृथ्वी पर चर्चित राजनीतिक दार्शनिक चाणक्य दोनों ही प्राचीन पाकिस्तान के बेटे थे। अब जो ज्ञान खोखर ने परोसा है, उसमें सिर्फ उसकी गलती नहीं है, बल्कि पाकिस्तान में इतिहास के नाम पर छात्रों को सिर्फ झूठ ही परोसा जाता है और यह झूठ वहां के मंत्री, नेता और अधिकारी जपते रहते हैं।

वहीं खोखर के नापाक ज्ञान के बाद लोगों ने सोशल मीडिया पर उसकी हेकड़ी निकाल दी। लोगों ने जिन शब्दों का इस्तेमाल किया है, उन शब्दों को खबर में लिखना संभव नहीं है। बाकी अगर आप पढ़ना चाहते हैं ट्विटर पर जाकर पढ़ लें।