रेहड़ी पटरी वालों के लिए मोदी सरकार ने शुरु ये योजना, ये होगा लाभ

लॉकडाउन की मार झेल रहे रेहड़ी पटरी वालों की स्थिति सुधारने के लिए केंद्र की मोदी सरकार ने पीएम स्वनिधि योजना (PMSVANidhi) की शुरुआत की यह एक प्रकार की माइक्रो क्रेडिट योजना है।

रेहड़ी पटरी वालों के लिए मोदी सरकार ने शुरु ये योजना, ये होगा लाभ
PM SvaNidhi Yojna

लॉकडाउन की मार झेल रहे रेहड़ी पटरी वालों की स्थिति सुधारने के लिए केंद्र की मोदी सरकार ने पीएम स्वनिधि योजना (PMSVANidhi) की शुरुआत की यह एक प्रकार की माइक्रो क्रेडिट योजना है। कैबिनेट बैठक के बाद केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडे़कर ने बताया कि पीएम स्वनिधि योजना मुख्य रुप से रेहड़ी पटरी वालों के लिए समर्पित होगी। उन्होंने बताया कि यह योजना रेहड़ी-पटरी वालों को फिर से काम शुरु करने और उनकी अजीविका को समक्ष बनाने में मदद करेगी। 

बता दें, इस योजना के तहत वेंडर, हॉकर, ठेले वाले, रेहड़ी वाले, ठेली फलवाले आदि सहित 50 लाख से अधिक लोगों को इस योजना से लाभ मिलने की संभावना है।

पीएम स्वनिधि योजना की विशेषता -

  • इस योजना के तहत रेहड़ी-पटरी वालों को 10 हजार रुपए का छोटा लोन मिलेगा।
  • समय से ऋण चुकाने पर 7 फीसदी ब्याज के हिसाब से पैसे लाभार्थियों के अकाउंट में फिर से भेज दिए जाएंगे। 
  • समय से लोन चुकाने पर लाभार्थियों को फिर से लोन की सुविधा उपलब्ध होगा।
  • इस योजना का लाभ मोची, नाई, चायवाले, पकौड़े वाले, स्टेशनरी की दुकानें, कारीगर, पाने वाले समेत सभी रेहड़ी पटरी पर काम वाले उठा सकते हैं।
  • यह योजना सड़क पर माल बेचने वालों को मासिक नकद वापसी के जरिये डिजिटल लेनदेन को प्रोत्साहित करेगी।

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि सरकार ने MSME की परिभाषा को संशोधित करने का काम किया है। MSME के लिए 20 हजार करोड़ रुपए लोन देने का प्रावधान है। इसी के साथ 50 हजार करोड़ रुपए के इक्विटी निवेश को भी मंजूरी दी गई है। साथ ही MSME के कारोबार की सीमा 5 करोड़ रुपए कर दी गई है। जावड़ेकर ने कहा कि लोग अपना काम ठीक से कर सके इसीलिए सरकार ने बड़े फैसले लिए हैं। उन्होंने कहा कि देश में 6 करोड़ से ज्यादा MSME की भूमिका है। जिनके बिना मजबूत अर्थव्यवस्था संभव नहीं है।