सांसद और मंत्री को ढूंढ कर लाइए और ईनाम पाइए

ऐसा ही कुछ हाल उत्तर प्रदेश के बलिया का है। जहां के सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त और विधायक एवं मंत्री आनंद स्वरुप शुक्ल को जनता खोज रही है।

सांसद और मंत्री को ढूंढ कर लाइए और ईनाम पाइए
Virendra Singh Mast

कोरोना काल जहां कुछ राजनेता योद्धा की तरह दिन रात एक कर लोगों की सेवा में लगे हुए हैं तो वहीं दूसरी ओर तमाम ऐसे सियासतदार हैं, जो अपने साम्राज्य में आराम फरमा रहे हैं। उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता जनता जिए या मरे। जनता जिएगी तो भी वोट करेगी और मर गई तो क्या हर्ज है। ऐसा ही कुछ हाल उत्तर प्रदेश के बलिया का है। जहां के सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त और विधायक एवं मंत्री आनंद स्वरुप शुक्ल को जनता खोज रही है। इस दौरान कुछ लोग ये लाइने गुनागुना कर सांसद विधायक को खोज रहे हैं - सांसद विधायक गायब भईले गलती वोटवा देकर हो गईल।

वहीं जिले के छात्रनेता मनोज दुबे व राहुल चौबे ने सांसद-विधायक के लापता होने के संबंध में शहर स्थित शहीद पार्क रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड पर पोस्टर लगाया है। सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त और विधायक एवं संसदीय राज्यमंत्री आनंद स्वरुप शुक्ल के लापता होने संबंधित पोस्टरों से शहर पटा पड़ा है। इतना ही नहीं उन्होंने पोस्टर में लिख रखा है कि जो कोई भी सज्जन सांसद विधायक को ढूंढ कर लाएगा, उन्हें ईनाम भी दिया जाएगा। 

छात्र नेता मनोज दुबे का कहना है कि कोरोना जैसे वैश्विक महामारी में पूरी जनता परेशान हैं। कहीं-कहीं तो लोग खाने के लिए मोहताज हो चुके हैं। सांसद विधायक आज तक किसी का हाल भी नहीं लिये। महानगरों से बहुत बड़ी संख्या में परदेशी लोग लौटे हैं। उनका जो कुछ था सब छोड़ कर पैदल, सवारी, रेलगाड़ी जो भी मिला बहुत भरोसे से जान बचा कर घर आ पाए हैं। सांसद, विधायक की अनदेखी के चलते प्रशासन भी कोई सहयोग नहीं कर रहा है। जनता अन्य परेशानीयों से जूझ रही हैं। लेकिन बलिया के जनप्रतिनिधि लोकसभा सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त और नगर विधायक व् संसदीयकार्य राज्य मंत्री आनंद स्वरूप शुक्ल हो या कोई और  बलिया के जितने भी प्रतिनिधि रहे हैं एक दिन भी लाख डाउन में शहरों में नहीं दिखे । सपा के छात्र नेता मनोज दुबे ने बताया कि अगर कोई भी सज्जन सांसद व मंत्री को ढूंढ कर लाएगा उसको हम सब छात्र नेता सम्मानित करेंगे।