अच्छी खबरः अप्रैल 2019 के बाद रेल दुर्घटना में एक भी यात्री की मृत्‍यु नहीं

भारतीय रेलवे ने बताया कि अप्रैल 2019 से मार्च 2020 के दौरान अब तक का सर्वश्रेष्ठ रिकॉर्ड दर्ज किया है। 1 अप्रैल 2019 से लेकर 8 जून 2020 तक किसी रेल दुर्घटना में किसी भी रेल यात्री की मृत्यु नहीं हुई है।

अच्छी खबरः अप्रैल 2019 के बाद रेल दुर्घटना में एक भी यात्री की मृत्‍यु नहीं
Indian Railway

भारतीय रेलवे ने बताया कि अप्रैल 2019 से मार्च 2020 के दौरान अब तक का सर्वश्रेष्ठ रिकॉर्ड दर्ज किया है। 1 अप्रैल 2019 से लेकर 8 जून 2020 तक किसी रेल दुर्घटना में किसी भी रेल यात्री की मृत्यु नहीं हुई है। भारत में 166 वर्ष पहले 1853 में रेलवे प्रणाली शुरू होने के बाद से वर्ष 2019-2020 में पहली बार यह उल्लेखनीय उपलब्धि हासिल की गई है। पिछले 15 महीनों में एक भी यात्री की मृत्यु न होना सभी मामलों में सुरक्षा प्रदर्शन में सुधार लाने की दिशा में  भारतीय रेल द्वारा निरंतर किए गए प्रयासों का परिणाम है।

भारतीय रेलवे का कहना है कि सुरक्षा हमेशा सर्वोच्च प्राथमिकता होती है, इसलिए सुरक्षा की स्थिति में सुधार लाने के लिए किए गए उपायों में मानव युक्‍त रेलवे क्रॉसिंग को हटाया जाना, रोड ओवर ब्रिज (आरओबी)/ रोड अंडर ब्रिज(आरयूबी) का निर्माण,पुलों का जीर्णोद्धार, सबसे अधिक पटरियों का नवीकरण, वर्ष के दौरान सेल से अधिकतम रेलों की आपूर्ति, पटरियों काप्रभावी रखरखाव, सुरक्षा पहलुओं की कड़ी निगरानी, रेलवे कर्मचारियों का बेहतर प्रशिक्षण, सिग्नल प्रणाली में सुधार, सुरक्षा कार्यों के लिए आधुनिक तकनीक का उपयोग, परम्‍परागत आईसीएफ कोचों से आधुनिक और सुरक्षित एलएचबी कोचों में रुपांतरण आदि शामिल हैं।

सुरक्षा की दृष्टि से भारतीय रेलवे ने कुछ बड़े कदम उठाए हैं - 

  • वर्ष 2018-19 में 631 मानवयुक्त रेलवे क्रॉसिंग को समाप्त करने की तुलना में 2019-20 में रिकॉर्ड संख्या में 1274 मानवयुक्त रेलवे क्रॉसिंग(पिछले वर्ष से दोगुना) को समाप्त किया गया है। पहली बार इतनी अधिक संख्‍या में रेलवे क्रॉसिंग्‍स को खत्‍म किया गया है।
  • रेलवे नेटवर्क पर सुरक्षा बढ़ाने के लिए 2019-20 में कुल 1309 आरओबी / आरयूबी का निर्माण किया गया।
  • 2019-20 के दौरान 1367 पुलों (पिछले वर्ष से 37 प्रतिशत अधिक) का जीर्णोद्धार किया गया, पिछले साल 1013 पुलों का जीर्णोद्धार किया गया था।
  • 2019-20 में अधिकतम 5,181 ट्रैक किमी (टीकेएम) रेलों का नवीकरण (पिछले वर्ष से 20 प्रतिशत अधिक) किया गया, जबकि 2018-19 में 4,265 टीकेएम रेलों का नवीकरण किया गया था।
  • 2019-20 में 285 लेवल क्रॉसिंग (एलसी) को सिग्‍नलों के द्वारा इंटरलॉक किया गया है, इसके साथ ही संचयी इंटरलॉक्‍ड एलसी की संख्‍या 11,639 हो गई है।
  • 2019-20 के दौरान 84 स्टेशनों की सुरक्षा में सुधार करने के लिए उनमें यांत्रिक सिग्नलिंग के स्‍थान पर इलेक्ट्रिकल / इलेक्ट्रॉनिक सिग्नलिंग की गई।