कोविड के खिलाफ जंगः सैनिटाइज, मास्क और PPE किट का निर्माण कर रही भारतीय रेलवे

भारतीय रेलवे इन दिनों कोरोना महामारी के खिलाफ जंग में अहम भूमिका अदा कर रहा है। इतना ही स्वास्थ्य सुविधा को भी सुदृढ़ बनाने के लिए रेलवे प्रयासरत है। रेलवे सैनिटाइजर, मास्क के साथ-साथ PPE किट का भी निर्माण कर रही है।

कोविड के खिलाफ जंगः सैनिटाइज, मास्क और PPE किट का निर्माण कर रही भारतीय रेलवे
PPE Kit

भारतीय रेलवे इन दिनों कोरोना महामारी के खिलाफ जंग में अहम भूमिका अदा कर रहा है। इतना ही स्वास्थ्य सुविधा को भी सुदृढ़ बनाने के लिए रेलवे प्रयासरत है। रेलवे सैनिटाइजर, मास्क के साथ-साथ PPE किट का भी निर्माण कर रही है। भारतीय रेलवे अब तक 1 लाख 91 हजार पीपीई किट और 7 लाख 33 हजार से ज्यादा मास्क का निर्माण कर चुका है। इसके अलावा रेलवे ने 66.4 किलोलीटर यानि 66,000 लीटर से अधिक सैनिटाइजर का भी उत्पादन किया है।

रेलवे की तैयारियों को और मजबूत बनाने के उद्देश्य से रेलवे की सभी इकाइयों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए उत्तर रेलवे द्वारा केन्द्रीय रूप से एम/एस एचएलएल लाइफ केयर (स्वास्थ्य मंत्रालय के तहत आने वाला पीएसयू) पर पीपीई कवरआल (22 लाख), एन95 मास्क (22.5 लाख), हैंड सैनिटाइजर 500 मिली (2.25 लाख) और अन्य सामानों के लिए ऑर्डर दिया है।

रेल मंत्रालय ने रेलवे के 50 अस्पतालों को कोविड समर्पित अस्पतालों और कोविड समर्पित स्वास्थ्य केन्द्रों के रूप में नामित किया है। कोविड महामारी की चुनौती से पार पाने के लिए चिकित्सा उपकरणों और अन्य सामानों की खरीद के माध्यम से इन अस्पतालों में सुविधाओं में सुधार किया गया है। देश में स्वास्थ्य आधारभूत ढांचे की क्षमता को बढ़ाने के लिए रेलवे के 5,231 कोच को पहले ही आइसोलेशन कोच के रूप में परिवर्तित किया जा चुका है, जिन्हें अब कोविड देखभाल केन्द्रों के रूप में उपयोग किया जा सकता है। राज्यों से मिले अनुरोध के आधार पर अभी तक विभिन्न स्थानों पर 960 कोचों को सेवा के लिए तैनात कर दिया गया है।