उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के अरुणाचल दौरे से चिढ़ा चीन, भारत ने दिया मुंहतोड़ जवाब

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू 9 अक्टूबर को भारत के अभिन्न हिस्से अरुणाचल प्रदेश के दौरे पर गए थे, जिससे चीन चिढ़ गया है और उसने उपराष्ट्रपति के दौरे पर आपत्ति जाहिर की है। जिसके बाद बुधवार को भारत ने भी चीन को मुंहतोड़ जवाब दिया है।

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के अरुणाचल दौरे से चिढ़ा चीन, भारत ने दिया मुंहतोड़ जवाब
#VenkaiahNaidu

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू 9 अक्टूबर को भारत के अभिन्न हिस्से अरुणाचल प्रदेश के दौरे पर गए थे, जिससे चीन चिढ़ गया है और उसने उपराष्ट्रपति के दौरे पर आपत्ति जाहिर की है। जिसके बाद बुधवार को भारत ने भी चीन को मुंहतोड़ जवाब दिया है। विदेश मंत्रालय ने दो टूक जवाब देते हुए कहा कि वह चीन की तरफ से की गई टिप्पणी को सिरे से खारिज करता है। क्योंकि अरुणाचल प्रदेश भारत का एक अभिन्न और अविभाज्य हिस्सा है। दरअसल, उपराष्ट्रपति के दौरे से चीन घबरा गया और कहा कि वह अरुणाचल प्रदेश को राज्य के तौर पर मान्यता नहीं देता है।

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजयान ने कहा कि चीनी सरकार कभी भी भारतीय पक्ष द्वारा एकतरफा और अवैध रुप से स्थापित तथाकथित अरुणाचल प्रदेश को मान्यता नहीं देती है और संबंधित क्षेत्र में भारतीय नेताओं की यात्राओं का कड़ा विरोध करती है। चीन ने भारत को गीदड़भभकी दिखाते हुए कहा कि हम भारतीय पक्ष से चीन की प्रमुख चिंताओं का ईमानदारी से सम्मान करने और सीमा मुद्दे को जटिल और विस्तारित करने वाली कोई भी कार्रवाई बंद करने और आपसी विश्वास और द्विपक्षीय संबंधों को कम करने से बचने का आग्रह करते हैं।

भारत ने चीन को दिया मुंहतोड़ जवाब

चीन के बेबुनियाद दावे पर भारत ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि भारत के एक राज्य में एक नेता के जाने पर चीन की आपत्ति बेवजह और भारतीय नागरिकों की समझ से परे हैं। हम चीन के बयान को खारिज करते हैं। अरुणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न हिस्सा है।