कोरोना वैक्सीन को लेकर स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्धवर्धन ने दी अहम जानकारी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि भारत में कोरोना का पहला केस 30 जनवरी को सामने आया था। इस समय देश में 5 लाख केसों में से 3 लाख से अधिक मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। देश में मृत्यु दर 3 फीसदी है।

कोरोना वैक्सीन को लेकर स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्धवर्धन ने दी अहम जानकारी
Dr Harshvardhan Singh

देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। देश में 5 लाख से ज्यादा कोरोना मरीजों की संख्या हो गई है। वहीं कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा है कि लोगों को चिंतित होने की जरुरत नहीं है, क्योंकि दुनिया के अन्य देशों के मुकाबले भारत कोरोना के खिलाफ जंग में बेहतर प्रदर्शन कर रहा है। स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि केंद्र सरकार ने कोरोना से लड़ने के लिए टेस्टिंग बढ़ाई। उन्होंने यह भी बताया कि दुनिया के अन्य देशों के मुकाबले भारत में मृत्यु दर कम है। उन्होंने कहा कि इस मामले में रुस का प्रदर्शन ही भारत की अपेक्षा ठीक है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि भारत में कोरोना का पहला केस 30 जनवरी को सामने आया था। इस समय देश में 5 लाख केसों में से 3 लाख से अधिक मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। देश में मृत्यु दर 3 फीसदी है। उन्होंने कहा कि भारत के मुकाबले अमेरिका, ब्राजील और यूरोपीय देश में मृत्यु दर अधिक है। डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि कोरोना से लड़ने के लिए हमने टेस्टिंग बढ़ाई है। जिससे कोई पॉजिटिव व्यक्ति छूट न जाए। उन्होंने कहा कि अब भारत में 2 लाख से अधिक टेस्ट रोजाना हो रहे हैं। कोरोना के शुरुआती दिनों में जहां देश में सिर्फ एक ही लैब थी तो आज देश में 1036 लैब टेस्टिंग हो गए है।

डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि कई विशेषज्ञ कहा करते थे कि भारत में अब तक 30 मिलियन केस होंगे। लेकिन हम बेहतर स्थिति में हैं। लोगों को चिंता करने की जरुरत नहीं है। उन्होंने कहा कि समय-समय पर वायरस आते रहते हैं। चेचक और पोलियो ही ऐसे वायरस है, जिनको जड़ से समाप्त किया जा सका है। बाकी बीमारियों की तरह कोरोना वायरस भी बना रहेगा। लेकिन उन्होंने विश्वास जताया कि कोरोना वैक्सीन आ जाएगी। डॉ हर्षवर्धन ने विश्वास जताया कि अगले साल तक कोरोना की वैक्सीन आ जाएगी। लेकिन उन्होंने जोर दिया कि हमें अपने जीवनशैली में बदलाव करना होगा। वैक्सीन की खोज पर स्वास्थ्य मंत्री ने कहा  कि इसकी खोज के लिए पूरी दुनिया काम कर रही है। भारत में भी इसकी खोज चल रही है। मुझे लगता है कि अगले साल तक वैक्सीन आ जाएगी। वैक्सीन खोजने में भारत दुनिया के अन्य देशों से कम नहीं है।