200 किमी/घंटे की रफ्तार से आ रहा है तूफान अम्फान #AMPHAN

कोरोना संकट से जूझ रहे भारत पर अब तूफान अम्फान का प्रकोप पड़ने वाला है। वैज्ञानिकों के मुताबिक, इस तूफान की रफ्तार करीब 200 किलोमीटर प्रति घंटा तक हो सकती है

200 किमी/घंटे की रफ्तार से आ रहा है तूफान अम्फान #AMPHAN
CyclonicStorm AMPHAN

कोरोना संकट से जूझ रहे भारत पर अब तूफान अम्फान का प्रकोप पड़ने वाला है। वैज्ञानिकों के मुताबिक, इस तूफान की रफ्तार करीब 200 किलोमीटर प्रति घंटा तक हो सकती है। जिसमें पेड़-पौधे कागज के टुकड़ों की भांति उड़ते हुए दिखाई दे सकते हैं। मौसम विभाग के मुताबिक फिलहाल तूफान ओडिशा के पारादीप से करीब 900 किमी और पश्चिम बंगाल के दीघा से करीब 1140 किमी की दूरी पर दक्षिण-पश्चिम में स्थित है। 18 मई से यह तूफान रौद्र रुप में दिखाई देगा। वैज्ञानिक की माने तो 18 मई को इस तूफान की रफ्तार 150 से 170 किमी प्रति घंटे हो सकती है, जोकि बहुत गंभीर चक्रवातीय तूफान है।

वही 19 मई को अम्फान तूफान की रफ्तार करीब 190 किमी प्रति घंटे हो सकती है, जबकि 20 मई को अम्फान अपने विरकाल रुप में होगा। उस दिन इस तूफान की अधिकतम रफ्तार 200 किमी प्रति घंटे हो सकती है। जोकि अत्यंत गंभीर चक्रवातीय तूफान है। वहीं 21 मई तक इस तूफान के शांत हो जाने की आशंका है। लेकिन ये कह पाना मुश्किल है कि भारत में अम्फान तूफान कितनी तबाही मचाता है।

वहीं ओडिशा और पश्चिम बंगाल में 18 मई की शाम से छिटपुट स्थानों पर भारी वर्षा के साथ तटीय ओडिशा में कई स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने का अनुमान है। 19 मई को अधिकांश स्थानों पर भारी तथा कुछ स्थानों पर बहुत भारी वर्षा होगी, जबकि 20 मई 2020 को उत्तर तटीय ओडिशा के ऊपर कुछ स्थानों पर भारी वर्षा होगी। पश्चिम बंगाल के गंगा के मैदान वाले तटीय जिलों में 19 मई को कई स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने तथा कुछ स्थानों पर भारी वर्षा का अनुमान है। 20 मई को पश्चिम बंगाल के तटीय जिलों के ऊपर कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी एवं छिटपुट स्थानों पर अत्यधिक भारी वर्षा होने का अनुमान है।

समुद्र की स्थिति अगले 24 घटों के दौरान दक्षिण पश्चिम एवं बंगाल की खाड़ी के समीपवर्ती मध्य में बहुत उग्र रहेगी। आज रात से बंगाल की खाड़ी के मध्य के दक्षिणी भागों, 19 मई को बंगाल की खाड़ी के मध्य के उत्तरी भागों एवं समपीवर्ती उत्तर तथा 20 मई को बंगाल की खाड़ी के उत्तर में यह असाधारण बन जाएगी।

मछुआरों को चेतावनी जारी करते हुए अगले 24 घंटों के दौरान दक्षिण बंगाल की खाड़ी, 17 से 18 मई के दौरान मध्य बंगाल की खाड़ी एवं 18 से 20 मई के दौरान उत्तरी बंगाल की खाड़ी में न जाने का सुझाव दिया गया है।