डीजल-पेट्रोल के दामों के खिलाफ कांग्रेस का हल्ला बोल, सोनिया गांधी ने लगाए गंभीर आरोप

पेट्रोल-डीजल के बढ़े दामों के खिलाफ कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पूरे देश में प्रदर्शन किया। कई इलाकों में कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने ठेले पर स्कूटर ढोकर मोदी सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया।

डीजल-पेट्रोल के दामों के खिलाफ कांग्रेस का हल्ला बोल, सोनिया गांधी ने लगाए गंभीर आरोप
Congress Protest

पेट्रोल-डीजल के बढ़े दामों के खिलाफ कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पूरे देश में प्रदर्शन किया। कई इलाकों में कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने ठेले पर स्कूटर ढोकर मोदी सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। वहीं कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी पेट्रोल-डीजल के बढे दामों को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा है। सोनिया गांधी ने आरोप लगाया कि मोदी सरकार ने 12 बार एक्साइज ड्यूटी बढ़ाकर देशवासियों से 18 लाख करोड़ रुपए अतिरिक्त वसूले हैं। सोनिया गांधी ने कहा कि एक तरफ कोरोना महामारी का कहर है तो दूसरी ओर महंगे पेट्रोल-डीजल की कीमतों की मार ने देशवासियों का जीना मुश्किल कर दिया है।

सोनिया गांधी ने कहा कि पेट्रोल-डीजल के दाम उस समय बढ़ाए जा रहे हैं जब कच्चे तेल की कीमतें अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कम हो रही है। 2014 में सत्ता में आने के बाद मोदी सरकार ने जनता को कच्चे तेल की गिरती कीमतों का फायदा देने की बजाय पेट्रोल-डीजल पर 12 बार एक्साइज ड्यूटी बढ़ाई है, जिसकी बदौलत सरकार ने 18 लाख करोड़ रुपए की अतिरिक्त वसूली की। मोदी सरकार से अपील करते हुए सोनिया गांधी ने कहा कि सरकार की जिम्मेदारी है कि मुश्किल समय में वह देशवासियों का सहारा बने।  उनकी मुसीबत का फायदा उठाकर मुनाफाखोरी ना करकें। सोनिया गांधी ने सरकार से मांग की है कि वह डीजल-पेट्रोल की कीमतें कम करें और एक्साइज ड्यूटी भी वापस करें।

कांग्रेस ने कहा कि भाजपा ने अच्छे दिनों का नारा लगाकर जनता के 'अच्छे दिनों' को छीन लिया था। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर क्रूड ऑयल के लगातार घटते दामों के बावजूद भी पेट्रोल-डीजल की कीमतें आसमान को छू रही हैं। क्योंकि भाजपा जनहितैषी नहीं जनविरोधी है। भाजपा सरकार का ध्यान आम आदमी को राहत देने की जगह सिर्फ मुनाफाखोरी पर है। भाजपा देश की जनता को क्रूड ऑयल की कम कीमतों का लाभ देने की बजाय उत्पाद शुल्क बढ़ाकर मुनाफाखोरी पर लगी हुई है। कांग्रेस ने कहा पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों ने गरीब आदमी से लेकर हर वर्ग की कमर तोड़ दी है; महामारी में पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों ने हर वर्ग को झकझोर कर रख दिया है।