कोरोना काल में केजरीवाल सरकार ने खाने के नाम पर किया 250 करोड़ का घोटाला

बीजेपी नेता सुखबीर शर्मा ने केजरीवाल सरकार पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा है कि कोरोना काल में केजरीवाल सरकार ने खाने के नाम पर 250 करोड़ रुपए का घोटाला कर लिया है

कोरोना काल में केजरीवाल सरकार ने खाने के नाम पर किया 250 करोड़ का घोटाला
Arvind Kejriwal

बीजेपी नेता सुखबीर शर्मा ने केजरीवाल सरकार पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा है कि कोरोना काल में केजरीवाल सरकार ने खाने के नाम पर 250 करोड़ रुपए का घोटाला कर लिया है। उन्होंने इस संबंध में केंद्र सरकार से जांच की मांग की। उन्होंने कहा कि केजरीवाल सरकार ने आज तक न तो रसोईघर, न ही भोजन की मात्रा व गुणवत्ता, न ही भोजन वितरण केंद्रों को लेकर कोई भी आधिकारिक ब्यौरा दिया है। 

सुखबीर शर्मा ने कहा कि कुछ दिनों पहले ही लॉक डाउन का उल्लंघन करते हुए दिल्ली सरकार ने बसों में भरकर मजदूरों को आनंद विहार बस स्टैंड पहुंचाया यह कहकर कि आनंद विहार से दूसरे राज्यों के लिए बस से जा रही हैं। वहां पर दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री की मौजूदगी ने भी यह दर्शाया की मजदूरों को दिल्ली से बाहर निकालने की यह दिल्ली सरकार की ही योजना थी जिससे पूरे देश में अफरा-तफरी का माहौल बन गया। आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के नेता देश की मजदूरों पर राजनीति करना चाहते है और विदेशों में भारत का नाम खराब करना चाहते हैं।

सुखबीर शर्मा ने कहा कि यह झूठ है कि दिल्ली के तमाम कंस्ट्रक्शन वर्कर को दिल्ली सरकार ने ₹5000 की राशि दी है बल्कि कंस्ट्रक्शन वर्कर के नाम पर आम आदमी पार्टी कार्यकर्ताओं को दे दी। कंस्ट्रक्शन वर्कर के नाम पर बड़ा घोटाला कर रही है दिल्ली सरकार। कई दिनों से मुख्यमंत्री केजरीवाल कह रहे हैं कि जो मजदूर रजिस्टर्ड नहीं है वह भी रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं लेकिन आज तक एक भी मजदूर का रजिस्ट्रेशन नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में 2 करोड़ 20 लाख लोग रहते हैं जिनका आधार कार्ड हैं, जिनमें से 70 लाख मजदूर है, अगर दिल्ली सरकार उन मजदूरों को डायरेक्ट उनकी अकाउंट में पैसे ट्रांसफर कर देती तो आज दिल्ली के मजदूर पलायन के लिए मजबूर नहीं होते। आम आदमी पार्टी और कांग्रेस ने साजिश के तहत अपने शासित राज्यों के मजदूरों को पलायन के लिए मजबूर किया है।